October 7, 2022

तीर्थ यात्रियों के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी की गाइडलाइन

Read Time:3 Minute, 28 Second

हरिद्वार, दो साल से कोरोना की बंदिशों के बाद श्रद्धालु बड़ी संख्या में चारधाम यात्रा के लिए पहुंच रहे हैं। रोजना हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए धामों में जा रहे है। इसे देखते हुए उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ऐलान किया है कि चारों धाम में श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन कराने की सीमा एक-एक हजार और बढ़ा दी है। इस पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है और उसका सख्ती से पालन किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने अपील की है कि रजिस्ट्रेशन होने और रहने की व्यवस्था होने के बाद ही यात्रा करें। वही स्वास्थ्य विभाग की ओर से तीर्थ यात्रियों के लिए गाइडलाइन भी जारी किये गये है। जिससे की श्रद्धालुओं को यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े।

उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग की ओर से चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए कुछ गाइडलाइन जारी की है।

1. हेल्थ चेकअप के बाद ही यात्रा के लिए निकलें।
2. पहले से बीमार लोग अपने डॉक्टर का प्रिसक्रिप्शन, फोन नंबर और दवाइयां साथ रखें।
3. ज्यादा बुजुर्ग, बीमार या कोविड से ग्रस्त हो चुके व्यक्ति या तो यात्रा न करें या कुछ समय के लिए टाल दें।
4. तीर्थस्थल पर पहुंचने से पहले रास्ते में एक दिन का आराम जरूर करें।
5. गर्म और ऊनी कपड़े साथ में रखें।
6. हार्ट पेशंट, स्वांस रोगी, डायाबटिीज, हाई बीपी के मरीज ऊंचाई वाले क्षेत्रों में विशेष सावधानी रखें।
7. सिर दर्द, चक्कर आना, घबराहट, दिल की धड़कनें तेज होना, उल्टी आना, हाथ-पांव व होठों का नीला पड़ना, थकान होना, सांस फूलना,   खांसी आना या दूसरे लक्षण होने पर फौरन निकटतम स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचें और 104 हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें।
8. धूम्रपान व दूसरे मादक पदार्थों के सेवन से परहेज करें।
9. सनस्क्रीन 50एसपीएफ का प्रयोग त्वचा को तेज धूप से बचाने में करें।
10. अल्ट्रावायलेट किरणों से आंखों को बचाने के लिए सन ग्लास का प्रयोग करें।
11. यात्रा के दौरान पानी पीते रहें और खाली पेट न रहें।
12. लंबी पैदल यात्रा के दौरान बीच-बीच में विश्राम करते रहें।
13. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में व्यायाम करने से बचें।
14. किसी भी स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए 104 और ऐम्बुलेस के लिए 108 हेल्पलाइन पर संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Crime