December 3, 2022
BSP vacated house from former BJP MLA in bhilai

BSP ने BJP के पूर्व विधायक से खाली कराया मकान, अविभाजित MP के समय MLA रहते किया था कब्जा

Read Time:3 Minute, 43 Second

भिलाई.

भिलाई इस्पात संयंत्र (BSP) की टीम ने गुरुवार को अविभाजित मध्यप्रदेश के समय में पाटन से BJP विधायक रहे कैलाश चंद शर्मा के कब्जे से मकान खाली कराया। शर्मा ने विधायक रहते हुए सेक्टर 8 सड़क नंबर 21 में मकान नंबर 4बी को अलॉट कराया था।

BSP ने उन्हें कई बार मकान खाली करने के लिए नोटिस दिया, लेकिन वह काफी सालों से मकान पर अवैध रूप से कब्जा जमाए हुए थे। इसके बाद संपदा न्यायालय के आदेश पर BSP प्रशासन ने पुलिस की मदद लेकर मकान को खाली कराने की कार्रवाई किया।

BSP ने सारा सामान निकाल कर सड़क किनारे रख दिया।
BSP ने सारा सामान निकाल कर सड़क किनारे रख दिया।

मकान खाली कराने के लिए कोर्ट पहुंची थी BSP

BSP के मुताबिक, मकान खाली कराने को लेकर कोर्ट में भी अपील की गई थी। संपदा न्यायालय के आदेश पर गुरुवार दोपहर BSP का नगर प्रशासन विभाग और प्रवर्तन विभाग की टीम पहुंची और कैलाश शर्मा को कोर्ट के आदेश की जानकारी दी।

मकान खाली करा कर सील किया गया

उसके बाद मकान को खाली करने की प्रकिया को शुरू किया। इस दौरान BSP कर्मियों ने मकान का सारा सामान निकालकर सड़क किनारे रखकर कब्जा धारक शर्मा की सुपुर्दगी में दे दिया। इसके बाद मकान को सील कर दिया गया। इस दौरान BSP ने पुलिस की मदद भी ली थी।

पूर्व विधायक के आवेदन को कोर्ट किया खारिज
आवास को खाली करने का आदेश लोक परिसर अधिनियम 1971 के प्रकरण क्रमांक 67/2013 की धारा 5 की उपधारा (1) के अंतरगत सक्षम न्यायालय द्वारा जारी किया गया था। जब इसकी जानकारी पूर्व विधायक को हुई तो उन्होंने कोर्ट के उस आदेश के खिलाफ विविध व्यवहार न्यायालय अपील दायर की थी। न्यायालय ने 11 अगस्त 2021 को अपील को खारिज कर दी थी।

आगे भी जारी रहेगी कार्रवाई
प्रवर्तन विभाग के मुताबिक BSP आवास में जो लोग भी अवैध रूप से कब्जा करके रह रहे हैं। उनकी लिस्ट बनाई जा रही है। साथ ही पुराने कब्जा धारकों को मकान खाली करने के लिए नोटिस भी दिया जा रहा है। इसके बाद भी जो अवैध कब्जाधारी मकान नहीं खाली कर रहे हैं, उनके खिलाफ बेदखली की कार्यवाही लगातार जारी रहेगी।

यह भी पढ़ें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Crime